Categories Blog

अग्निपथ योजना: भड़के छात्रों ने लगाई ट्रेन में आग

अग्निपथ योजना को लेकर क्यों भड़के बिहार के छात्र?

agnipath-yojna-controversy

केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना को लेकर देश में कई जगह विरोध देखने को मिल रहा है। योजना के खिलाफ बिहार में आंदोलन पहले ही शुरु हो गया था। इसके उपरांत और भी कई जिलों से विरोध प्रदर्शन की खबरे आ रही है। हरियाणा के गुरुग्राम में भी आंदोलन हुआ। विरोध कर रहे छात्रों ने दिल्ली-जयपुर हाईवे जाम कर दिया। बिहार में इस योजना के खिलाफ आंदोलन ने उग्र रूप ले लिया है कुछ जगहों पर आगजनी की घटनाएं भी हुई है।

केंद्र सरकार ने हाल ही में अग्निपथ योजना की घोषणा की है जिसके मुताबिक भारतीय सेना में चार साल की भर्ती की जाएगी। चार साल की सेवा के बाद 25 फीसदी ऐसे होंगे जो अगले 15 साल के लिए सेना में भर्ती होंगे। केंद्र सरकार की इसी योजना का कड़ा विरोध हो रहा है।

छात्रों ने ट्रेन में लगाई आग

Agneepath-Yojna-hinsa (1)

बिहार के छपरा जिले में प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने छपरा जंक्शन के पास एक ट्रेन में आग लगा दी। सेना में भर्ती की तैयारी कर रहे छात्र नेवाादा और जहानाबाद से सड़को पर आ गए। इन छात्रों में अग्निपथ योजना को लेकर अधिक आक्रोश है। नेवादा के ही प्रजातंत्र चैक पर केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

बिहार के ही जहानाबाद में छात्रों ने रेल यातायात को बधित करने का प्रयास किया। पुलिस के आने पर छात्रों ने पथराव किया। कुछ लोगों ने राजधानी एक्सप्रेस के डिब्बों पर भी लाठियों से हमला किया जिससे यात्रियों में दहशत का माहौल देखने का मिलां। बिहार और हरियाणा के बाद राजस्थान में भी छात्रों ने अग्निपथ योजना का विरोध किया। बुधवार दोपहर प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने जयपुर-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर सड़क जाम कर दी। मामले में पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे 10 युवकों को गिरफ्तार किया और अन्य अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

अग्निपथ योजना क्या है?

agnipath-yojna-kya hai (1)

अग्निपथ स्कीम के तहत युवाओं को चार साल के लिए सेना में भर्ती होने का अवसर मिलेगा। सेवा काल में 6 महीने की ट्रेनिंग भी शामिल है। इस योजना के तहत थल सेना में सोल्जर रैंक, नौसेना में नौसैनिक रैंक और वायु सेना में वायु सैनिक यानी एयरमैन रैंक पर भर्ती करने का प्रस्ताव है। योजना के तहत भर्ती होने के लिए आयु सीमा साढ़े 17 साल से 21 साल तक होनी चाहिए। स्कीम के अनुसार 10 हफ्ते से लेकर 6 महीने तक ट्रेनिंग दी जाएगी। इसके बाद देश के अलग-अलग हिस्सों में तैनाती की जाएगी।

कितनी होगी सैलरी?

अग्निवीरों को सरकार पहले साल 30 हजार रुपये मासिक वेतन देगी। EPF/PPF की सुविधा के साथ अग्निवीर पहले साल 4.76 लाख रुपये पाएंगे । चौथे साल तक वेतन 40 हजार रुपये यानी सालाना 6.92 लाख रुपये पाएंगे ।

आखिर अग्निपथ योजना का विरोध क्यों है?

अग्निपथ योजना के अनुसार केवल चार साल के लिए सेना में भर्ती होगी और चार साल बाद सरकार सेवानिवृत्ति के लिए कहेगी। छात्रों ने इस योजना पर आपत्ति जताई है और योजना को गलता बताया है। उन्होंन यह सवाल भी उठाया है कि चार साल सेवा के बाद वे क्या करेंगे और उन्हें कहां नौकरी मिलेगी।

योजना के मुताबिक चार साल की सेवा के बाद 25 फीसदी ही ऐसे होंगे जो  अगले 15 साल के लिए सेवा में भर्ती होंगे। अब सवाल यह उठता है कि 10वीं और 12वीं पास 75 फीसदी युवाओं के लिए क्या विकल्प होगा और इन्हें कौन नौकरी देगा। चार साल सेवा से सेवानिवृत्त होने के बाद केंद्र सरकार इन युवाओं को करीब 12 लाख रुपये का सेवा कोष मुहैया कराएगी।

हांलाकि, छात्रों ने सवाल उठाया है कि सरकार के पास सेवानिवृत्ति के बाद वैकल्पिक रोजगार देने के लिए कौन सी योजना है?

यह भी पढ़ें-

आस-पास कहां-कहां रेस्टोरेंट मौजूद हैं,  पनीर पसंदा की रेसिपी, मेरे पास के किराये के मकान

0 comments

Can you be more specific about the content of your article? After reading it, I still have some doubts. Hope you can help me.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *